I think...

How is attitude formed?

दृष्टिकोण का निर्माण

मनोविज्ञान में किसी खास वस्तु, व्यक्ति, घटना या स्थिति के प्रति मनोभावों, विश्वासों और व्यवहारों के सेट या समुच्चय को दृष्टिकोण कहा जाता है। सरल शब्दों में यह किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थिति या घटना की बाबत सोचने और व्यवहार करने का खास ढंग है। किसी खास खेल में विशेष रुचि, किसी खास कलाकार के प्रति नापसंदगी, जीवन के प्रति सामान्यतः सकारात्मक या नकारात्मक भाव आदि इसके उदाहरण हैं। यह प्रायः वातावरण से प्राप्त अनुभवों या/और लालन-पालन के विशेष ढंग का परिणाम होता है और व्यवहार पर इसका बड़ा शक्तिशाली प्रभाव होता है। यह यद्यपि कि स्थायी किस्म का होता है, पर बदला भी जा सकता है।

दृष्टिकोण या नजरिया— इस बारे में मुझे शिव खेड़ा की किताब ‘You Can Win’ के पहले अध्याय का ध्यान आता है, जिसकी शुरुआत उन्होनें एक दिलचस्प कहानी से की है— एक आदमी जो अपनी रोजी- रोटी हीलियम गैस भरे गुब्बारे बेच कर कमाता था- रंग-बिरंगे गुब्बारे। जब भी उसका धंधा मंदा पड़ता, वह एक गुब्बारा हवा में छोड़ देता, बच्चे गुब्बारे को ऊपर जाता देख आकर्षित होते और दौड़े-दौड़े उसके पास आते और इस तरह उसका धंधा फिर चल निकलता। एक दिन एक बच्चे ने उससे पूछा, “यदि आप काले रंग का गुब्बारा हवा में छोड़ो, तो क्या वह भी ऊपर जाएगा?” तो उसने जवाब दिया, “बेटे, गुब्बारे का हवा में ऊपर जाना उसके रंग पर नहीं, बल्कि इस बात पर निर्भर करता है कि उसके अंदर क्या (भरा) है। यही बात हम मनुष्यों पर भी लागू होती है। हमारे अंदर की जो चीज हमें ऊपर या नीचे ले जाती है, या कहें कि समाज या इतिहास में हमारी स्थिति निर्धारित करती है, वह है हमारा नजरिया या दृष्टिकोण।

लेकिन यह एक दिन में तो बनता नहीं! इसके बीजों को उस माहौल में खोजा जाना चाहिए जिसमें व्यक्ति की परवरिश होती है, जन्म से लेकर वह जिस माहौल में पलता-बढ़ता है, संस्कारित होता है! इसे उन मूल्यों में खोजा जाना चाहिए जो उस आदमी में भरे गए हैं! अंतर्वैयक्तिक संबंधों की जो अहमियत सिखाई गई है उसे! विपरीत परिस्थितियों में रहकर भी यदि कोई सकारात्मक और महान कार्य कर जाता है, उस स्थिति में भी इस अजूबे का कोई न कोई ठोस कारण तो होता ही है। जैसे डाकू रत्नाकर का रामायणकार वाल्मीकि हो जाना महर्षि नारद के प्रभाव के कारण, अंगुलिमाल का बौद्ध भिक्षु हो जाना सिद्धार्थ गौतम के प्रभाव के कारण! फिर भी ऐसे अजूबों को आम नहीं अपवाद ही माना जाता है। इस तरह अपवादों को छोड़ यदि सामान्य अवस्था की बात करें तो कुल मिलाकर व्यक्ति का माहौल ही उसके दृष्टिकोण का, उसके नजरिए का निर्माता होता है। माहौल में कई बातें शामिल हैं, जैसे, घर का वातावरण जिसका सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव व्यक्ति पर पड़ सकता है; विद्यालय में शिक्षकों वह सहपाठियों के साथ बना अंतर्वैयक्तिक संबंध, कार्यालय में सहकर्मियों और ऊपर के अधिकारियों से मिला सहयोग या विरोध, मीडिया के प्रभाव, सांस्कृतिक व धार्मिक पृष्ठभूमि, परंपराएं और विश्वास, सामाजिक और राजनैतिक वातावरण आदि। ये सारे कुल मिलाकर एक खास संस्कृति का निर्माण करते हैं। खास बात यह है कि सकारात्मक वातावरण में साधारण काम करने वाले की भी उत्पादकता बढ़ती है जबकि नकारात्मक माहौल में अच्छे काम करने वाले की उत्पादकता भी घट जाती है। जिस देश की सरकार और राजनिति ईमानदार होती है, सामान्यतः वहां के लोग भी ईमानदार, कानून का पालन करने वाले और मददगा र होते हैं। भ्रष्ट वातावरण में ईमानदारों को कष्ट करना पड़ता है, जबकि यदि वातावरण ईमानदारी का हो तो भ्रष्ट लोगों की शामत आ जाती है। वहीं यह भी सच है कि यह संस्कृति ऊपर से नीचे की ओर, न कि नीचे से ऊपर की ओर, प्रवाहित होती है। और, माहौल के इस प्रभाव में अनुभव और शिक्षा के प्रभाव ही शामिल हैं।

जैसे देखिए, बचपन में यदि मां, दादी ने खेल खेल में भी भूत का डर आपके मन में बिठा दिया, किस्से-कहानियों, गप्प आदि के जरिए, तो समझदार होने के बाद भी आपको बहुत दिक्कत होती है भूत जैसी मनगढ़ंत बातों से छुटकारा पाने में! बहुधा लोग इसके जाल को ता-उम्र काट ही नहीं पाते!
कभी मां- बाप बच्चों को नासमझ समझ कर अपने साली, सलहज, भाभी, देवर, बहनोई आदि रिश्तेदारों से किए जाने वाले मजाकों में कोई परहेज नहीं बरतते, या मर्यादा की सीमा लांघ जाते हैं, इसका असर भी बढ़ते बच्चों के चेतन- अवचेतन मन पर पड़ता है! आपकी बातें और कारस्तानियां उनके कानों और मनों तक पहुंच कर क्या गुल खिलाती है, इसका अंदाजा आप नहीं लगा सकते!

स्त्री के प्रति पुरुष के दृष्टिकोण के संकुचित और शोषणकारी होने की मुझे तो ये खास वजह लगती है! आखिर पुरुष तरुण होकर या बड़ा होकर या अधेड़ होने पर भी स्त्री या छोटी लड़की/बच्ची को सिर्फ एक यौन तुष्टि की चीज क्यों समझता है? आए दिन स्त्रियों पर यौन शौषण और बलात्कार की निंदनीय और भयानक घटनाएं क्यों होती हैं? क्योंकि नारी की कोई और भूमिका को तरजीह देते हुए उस अपराधी बालक, युवा या वयस्क ने अपने आस पास लोगों को नहीं या कम ही देखा होता है! समाज में प्रचलित गालियों को देखें तो पाएंगे कि लगभग सारी की सारी स्त्रियों के विरुद्ध हैं, गांवों–देहातों में को गालियां प्रयोग की जाती हैं, उनकी तो पूछो ही मत!

लड़कियां भी शुरू से ही बंधन में रहना स्वीकार कर लेती हैं! ना करें तो बड़ों, पास – पड़ोसियों के तानों के डर के साथ साथ इज्जत (?) पर दाग लगने का डर तथ्यगत रूप से हो ना हो, इसका हव्वा खूब मचाया जाता है! सच्चाई कुछ भी हो, ऐसी (मनगढ़ंत) कहानियां सुनाई जाती हैं लडकियों को, जिनमें देर तक घर से बाहर रहने वाली लड़कियों के साथ कुछ गड़बड़ हो गई होती है! घर के छोटे लड़के भी इन्हें किसी ना किसी तरह सुन ही लेते हैं और माहौल ऐसा बन जाता है कि छोटे बच्चे तक “लडकी और गड़बड़” सुनते ही कुछ रहस्यमय सी मुस्कान वाली भाव भंगिमा बनाने लगते हैं! इन बातों से, एक तरफ तो घर की लड़कियां सहम कर रहने लगती हैं, दूसरी तरफ कम उम्र से बड़ी उम्र तक के लडके, लड़की-जाति के बारे में, एक खास दृष्टिकोण बना ही लेते हैं! रही सही कसर उनके कुछ (थोड़े) बड़े और समझदार (?) दोस्त और रिश्तेदार पूरा करते हैं जिनकी पहुंच वयस्क पठन/दृश्य-श्रव्य सामग्री तक होती है! घर की बड़ी- बूढ़ी, साथ ही दकियानूसी विचारों वाली महिलाएं लडकियों को उनके जीवन के महानतम उद्देश्य– विवाह, के लिए सदैव संस्कारित और तैयार करती हैं— पुरुषों (घर के हों या बाहर के) के सामने सीने को दुपट्टे से ढक कर, नजर नीची कर चलने का संस्कार, कभी किसी पुरुष को मुस्कुरा कर ना देखने का संस्कार, कम बोलने का संस्कार आदि- क्योंकि ये सब अच्छी और सुशील लडकियों के लक्षण है! कौमार्य का महत्व वे सिखाती हैं, चूल्हा चौका करना वे सिखाती हैं, साथ ही भाई- छोटे उम्र के चाचा सरीखे अपने समकक्षों के आगे दबना वे सिखाती है! साथ ही मिठाई,नमकीन जैसे खास लुभावन व्यंजनों के बंटवारे को लेकर जो गैरबराबरी घरों में की जाती है, उससे स्त्री-जाति शुरू से ही इस तथ्य से संस्कारित होती है कि पुरुष का एक जाति के रूप में अधिकार ज्यादा है और उसके चेतन – अवचेतन मन में यह बात ऐसे घर कर जाती है, कि जिन्दगी भर के लिए यह उसके व्यक्तित्व का अभिन्न हिस्सा बन जाती है!

फिर घरों में, खास कर गांवों में या गंवई प्रकार के शहरी घरों में भी, गाहे बेगाहे विवाहित-अविवाहित स्त्री-सदस्यों पर डांट डपट, मार पीट या यौन हिंसा होती है, बच्चे इन बातों से भी अछूते भला कैसे रह सकते हैं?
किसी घर में यदि स्त्रियों को घर के निर्णयों में बोलने की इजाजत होती है, या वह खुद चाहे किसी भी कारण से यह अधिकार ले लेती हैं, समाज में, मुहल्ले में उसकी चर्चा होने लगती है, ज्यादातर गलत वजहों से! मुझे याद है, मेरे पड़ोस की मेरी एक बुआ भाई ना होने के कारण मैके में बसी हैं! ऐसी स्थितियों के लिए हमारे मागधी में ‘तड़का’ शब्द-नाम का प्रयोग होता है। तड़का, यानी भोजन का स्वाद बढ़ाने के लिए जीरा, मेथी, अजवाइन, तेजपत्ता, इलायची आदि विभिन्न स्वाद व क्षुधावर्द्धक सामग्रियों की जो बघार दी जाती है दाल, सब्जी और अन्य भोज्य पदार्थों में! यानी मूल भोजन के ‘अतिरिक्त’!  असल तो उसके पति की संपत्ति है; मैके की संपत्ति तो अतिरिक्त यानी तड़का है! तो बुआ खेती बाड़ी के बारे में फूफा से ज्यादा जानने के कारण शुरू से ही निर्णय आदि में हाथ बंटाती रही है! मेरे अपने घर में मेरे पिता शुरू से ही अधिकांशतः बाहर रहे, सारे चाचा भी, तो जब तक दादा रहे दादा ने कराई, दादा के बाद खेती मेरी मां ने ही कराई, तो वह भी निर्णय करती थी! इस बात को लेकर छुटपन में मेरे गांव में मुझसे कई बार मेरे दोस्तों (?) ने हंसी उड़ाने के भाव से कहा है,”अरे, तुम्हारे टोले में तो औरतों की चलती है, तुम क्या बात करोगे?”

पता नहीं क्यों आज ये बातें कर बैठा, पर कहीं दबी थीं, अच्छा ही हुआ निकल पड़ीं! शायद इनसे किसी को (या कि पूरे समाज को) कुछ दिशा निर्देश मिल जाए समाधान ढूंढने में कि आखिर क्यों स्त्रियों के प्रति पुरुषों का नजरिया वृहद रूप से संकीर्ण ,द्वेष भरा और शोषकों वाला है!

मैं सच में इसे पोस्ट करने में संकोच अनुभव कर रहा हूं, पर कर रहा हूं, आगे मित्रों की मर्जी!
व्याकरण की त्रुटियों को नजरंदाज करते हुए आपकी रचनात्मक टिप्पणियों का आकांक्षी हूं!

1 thought on “How is attitude formed?”

  1. बड़ा ही सारगर्भित आलेख, मौजूदा माहौल में स्त्रियों के प्रति बढ़ती हिंसा के परिप्रेक्ष्य में लोगों के नजरिए के निर्माण की सटीक व्याख्या करने का आपने अच्छा प्रयास किया है, साधुवाद!

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s